क्या नाम से फर्क पड़ सकता है? - देव आनंद

Image
क्या नाम से फर्क पड़ सकता है? की श्रृंखला में आपका स्वागत है नाम के अक्षर विभिन्न तत्वों के सदस्य हैं जैसे जल मण्डल , अग्नि मण्डल , पृथ्वी मण्डल  और वायु मण्डल । देव आनंद बहुमुखी व्यक्तित्व के धनी एक सफल अभिनेता और कलाकार थे। आज मैं उनके फिल्मी नाम देव और असली नाम धरमदेव दोनों का विश्लेषण करूंगा और जानूंगा कि उनके सफल करियर में उनके नाम का कोई योगदान है या नहीं। नाम देव  आनंद   -  देव शब्द में एक अक्षर वायु मण्डल से और एक अक्षर अग्नि मण्डल से। दोनों तत्व एक दूसरे के मित्र हैं अर्थात एक दूसरे की टांग नहीं खींचते और एक दूसरे की मदद करते हैं जिससे 1 + 1 = 11 हो जाता है। उपनाम आनंद - 1 अक्षर जल मंडल, 2 अक्षर वायु मंडल। अब वायु मंडल के कुल अक्षर 3 हुए (१ देव शब्द से और २ आनंद शब्द से) + अग्नि मंडल अक्षर 1 ( देव शब्द से )  =  कुल  मित्र अक्षर 4 और जल मंडल अक्षर 1 (आनंद शब्द से). अगर विरोधी समाज अनुपात 1 विभाजित 4 = 0.25 जो 0.33 जितना या उससे  कम है तो अल्पमत हार मान लेता है और विपरीत पक्ष का मित्र बन जाता है। अतः देव आनंद नाम के 5 अक्षर सही हैं। नाम धरमदेव  आनंद    -  धरमदेव शब्द  इस नाम में

Happy New Year 2024 in Brahmi Lipi (Nava Varsha Shubhkamana 2024).

 Happy New Year 2024 in Brahmi Lipi (Nava Varsha Shubhkamana 2024). Brahmi Lipi is the oldest lipi even before Sanskrit. According to Jainism 1st Tirthankar Rishabhdev taught it to his daughter Brahmi hence the name Brahmi lipi (Script). Hinduism believes Brahmaji created the script hence the word Brahmi.  Great Ashoka used it in his message on stones sculptures 300 B.C. Westerners believe it came from outside Bharat.




Popular posts from this blog

World Markets ranking based on their distance from 52 Weeks High

US Markets country wise distribution of Market Capitalization as on week starting July-17-2023

Why Investors should track US Bond Yields? Update as on July 24, 2023